क्यो ना थोड़ी दिल की बात की जाये?

सोचता हूँ कि ख्बाब में भी तेरा जिक्र ना करूँ,
चाहता हूँ कि एक पल को भी तेरा फ़िक्र ना करूं….
*********************************************************
पर तेरे ख्याल से मेरी तन्हाई कभी खाली नहीं होती,
कोई पल नहीं ऐसा तेरी याद से जब मेरी आँख नहीं रोती….
**********************************************************
तेरी खुशी की मुस्कान हर पल मेरे होठों पर सजती है,
तेरी गम की शहनाई भी मेरे इस दिल में बजती है…..
********************************************************
अपनी शामों को तेरे गम से आजाद कर तो दूं लेकिन,
अपने दामन को तेरे आंसुओं से छुड़ा तो लूं लेकिन…..
*******************************************************
मेरी हर सुबह तेरे हसीं दीदार को मचलती है,
मेरी हर साँस तुम्हें खुद में बसने को चलती है……
*****************************************************
तुम दूर होकर भी हमेशा मुझमें ही बसती हो,
जिंदगी बन कर तुम मेरी मौत पर हँसती हो…..
(Visited 28 times, 1 visits today)

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *