बस इक खुशी की तमन्ना की थी

Posted by

मैंने खुदा से बस इक खुशी की तमन्ना की थी..
और तुम आई जिंदगी में खुशियों की लहर बन कर
****************************************
मैंने खुदा से इक चिराग भर की ख्वाईश की थी..
और तुम मिली मुझसे उजालों का शहर बन कर
****************************************
मेरे डूबते दिल ने तो तिनके की चाहत की थी…
और तुमने बख्शी जिंदगी मुझे किनारा बन कर
*****************************************
मेरी प्यास ने तो दो बूँद पानी की आरज़ू की थी..
और पहुँचाई राहत मुझसे खालिस शबनम बन कर
*****************************************
मैंने तो प्यार के चंद पलों की मन्नत की थी..
और तुम समायी मुझमें मोहब्बत का जहाँ बन कर

(Visited 41 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *