P V Sindhu #RioOlympics2016 के फाइनल में

तो इस तरह भारत का #RioOlympics2016 में एक और मैडल सुनिश्चित हो गया है। आज की ख़ुशी से नाचने वाली खबर ये है कि भारत की शान PV Sindhu ने जापान की ओकुहारा को सीधे सेट्स में 21-19 और 21-10 से हरा दिया है। पूरे मैच में सिन्धु ने जापान की होनहार खिलाड़ी को सांस तक लेने नहीं दिया और उसे शटल के साथ ऐसे घुमाया जैसे कोई छोटे बच्चे को खिलौने के लिए घुमाता है।

फाइनल में जाने के साथ ही सिन्धु ने सिल्वर मैडल पक्का कर लिया है. और इसके साथ साथ वे ओलंपिक्स फाइनल में पहुँचने वाली पहली महिला खिलाड़ी बन गयी है.
फाइनल में जाने के साथ ही सिन्धु ने सिल्वर मैडल पक्का कर लिया है और इसके साथ साथ वे ओलंपिक्स फाइनल में पहुँचने वाली पहली महिला खिलाड़ी बन गयी है।

फाइनल में जाने के साथ ही सिन्धु ने सिल्वर मैडल पक्का कर लिया है। और इसके साथ साथ वे ओलंपिक्स फाइनल में पहुँचने वाली पहली महिला खिलाड़ी बन गयी है। तो एक इतिहास तो रचा जा चुका है और दूसरे इतिहास की उम्मीद और दुआ हम करेंगे जब सिन्धु अपना फाइनल मैच खेलने कोर्ट में प्रवेश करेंगे।

ये जीत इसलिए भी अहम है क्यूंकि पिछले हुए चार मुकाबलों में ओकुहारा तीन मैच जीतकर हावी रही हैं। पर ये मैच शुरू से ही सिन्धु का था और उन्होंने कभी भी बढ़त हाथ से नही जाने दी। पहले सेट के बीच में हालांकि ऐसा लगने लगा था कि वे फोकस खो रही हैं परन्तु सेट जीतकर उन्होंने अपनी दावेदारी पहले सेट ही पेश कर दी थी। दूसरे सेट में ओकुहारा ने अच्छा शुरू किया था और 8 अंकों तक वे बढ़त पर थी पर उसके बाद सिन्धु ने ऐसा खेल दिखाया कि उनकी विपक्षी खिलाडी के चेहरे पर भी उनके लिए प्रशंसा के भाव थे। सिन्धु ने अंतिम 11 अंक एक साथ लेकर ये साबित कर दिया कि इस ओलंपिक्स में सिन्धु सिर्फ जीतने आई है।

और जीत के बाद जिस तरह से ओकुहारा के कोच ने उनकी पीठ थपथपाई वो उस ऐतहासिक खेल की पुष्टि की जो सिन्धु ने आज बैडमिंटन कोर्ट पर दिखाया।

जीत हासिल हुयी है, चुनौतियों पर विजय पायी है पर 21 वर्ष की सिन्धु के सामने एक और बड़ी चुनौती है और इस बार मुकाबला विश्व की नंबर खिलाड़ी कैरोलिना मरीन से है। और हम उम्मीद करते हैं कल शाम हम सिन्धु के गोल्ड मैडल जीतने का जश्न मना रहे होंगे।

मैं बहुत खुश हूँ, मैं बहुत अच्छा खेली,” सिन्धु ने जीत के बाद कहा।
इसके साथ उन्होंने विपक्षी खिलाड़ी कि तारीफ करते हुए कहा, “वो बहुत अच्छा खेले और रैली में आखिर तक जूझती रहीं
अगर सिन्धु गोल्ड नहीं भी जीत पाती हैं तो भी वे सिल्वर मैडल जीतने वाली भारत की पहली महिला होंगी।

(Visited 48 times, 1 visits today)

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *