बाहुबली 2 द कनक्ल्यूज़न मूवी रिव्यु – एक विज़ुअल ट्रीट

बाहुबली 2 द कनक्ल्यूज़न मूवी रिव्यु – एक विज़ुअल ट्रीट

4 स्टार *****

हालांकि इतनी हाइप के बाद खासतौर पर ये जानने की बेसब्री में कि आखिर ऐसा क्या हो गया कि कटप्पा को बाहुबली को मारना पड़ा, ऐसे कुछ ही लोग होंगे जो बाहुबली 2 का रिव्यू पड़ने में इंटरस्टीड होंगे. इसके साथ कुछ ऐसे भी लोग हैं जिन्हें टिकट का दुगुना दाम थोड़ा परेशान कर रहा होगा। ऐसे लोगों के लिए मैं ले कर आया हूँ ये स्पोइलेर-फ्री रिव्यु या यूँ कहिये अपने अनुभव।

पहली बात तो ये कि बाहुबली 2, सीक्वल कम और प्रीक्वल ज्यादा हैं क्योंकि ये बाहुबली 1 के पहले की कहानी प्रस्तुत करता है। इसके अलावा ये फिल्म महाराज अमरेंदर और देवसेना की प्रेम कहानी को भी उजागर करता है, जो कि बाहुबली: द बिगनिंग की पहले की घटनाएँ हैं। कहानी में कुछ अनावश्यक प्रसंग जोड़ने और क्लाइमेक्स थोड़ा खिंचा होने के बाद भी ये फिल्म निराश नहीं करती और इसकी वजह है फिल्म के शानदार विज़ुअल्स और अद्भुत सिनेमेटोग्राफी।

बाहुबली 2 एक ऐसी फिल्म है जिसे सिर्फ़ एन्जॉय करना चाहिए बजाय जज करने के। यह एक विज़ुअल ट्रीट हैं जिसमें आपका खो जाने का मन करेगा। कुछ-कुछ संवाद और सीन आपको मन्त्रमुग्ध कर देंगे। इसके अलावा सभी कलाकारों का अभिनय भी सराहनीय जो दर्शकों को सीट के एज पर रखता है। बाहुबली 2 भारतीय सिनेमा के विकास को भी प्रदर्शित करती है और इस वजह से ये कम से कम एक बार तो दर्शनीय है।

क्योंकि मैं आपका सस्पेंस ख़राब करना नहीं चाहता इसलिए कहानी पर कुछ नहीं कहूँगा पर इतना ज़रूर बताना चाहूँगा कि अगर अपने बाहुबली द बिगनिंग को पसंद किया है तो आप बाहुबली 2: द कन्क्ल्यूज़न को और पसंद करेंगे। फिल्म के डायरेक्टर राजामौली सोच और एग्जीक्युशन के लिए तारीफ के हक़दार हैं। बाहुबली की कामयाबी भविष्य में भारत में इस तरह के प्रयासों को बढावा देंगे। मेरा आपको परामर्श है कि अगर आपने ये जबरदस्त सिनेमेटोग्रफिक अनुभव से अभी तक वंचित हैं तो और देर ना करें और हाँ अपनी जेब अवश्य देखें क्योंकि टिकट कुछ महंगी हैं इस बार।

बाहुबली की बॉक्स ऑफिस कलेक्शन जानने के लिए क्लिक करें।

(Visited 17 times, 1 visits today)

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *