केजरीवाल के गले की हड्डी बने कपिल मिश्रा, लगाया 2 करोड़ हज़म करने का आरोप

केजरीवाल के गले की हड्डी बने कपिल मिश्रा, लगाया 2 करोड़ हज़म करने का आरोप

भाई केजरीवाल (अरे हमारे मुख्यमंत्री) साहब के तो सर मुंडाते ओले पड़ने का जो सिलसिला शुरू हुआ था वो खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा। भारतीय राजनीति के इतिहास में एक सुनहरे पन्ने की तरह दाखिल हुई क्रान्ति-जनित पार्टी के पन्ने हर दिन काले पड़ते जा रहे हैं। चरित्रहीनता, घरेलू हिंसा से लेकर भ्रष्टाचार तक, लगभग हर तरह के अपराधों के आरोप इन पर लगते ही रहे हैं। जब तक एक MLA का मामला सुलटता है दूसरा कहीं हाथ जला बैठता है। अब दिक्कत ये है कि जनाब खुद इतने बड़बोले हैं कि जबभी किसी पचड़े में पड़ते हैं विपक्ष से लेकर मीडिया और मानव तक हर कोई इनकी लेने पहुँच जाता है।

Kapil Mishra allegations

अभी पंजाब में नाक कटवा कर आये ही थे कि इनके अपने गढ़ में इनकी इज्ज़त नीलाम हो गयी। और ऐसे में जब उन्हें थोडा संयम से काम लेना चाहिए था तो सारा ठीकरा बेचारी EVM के सर फोड़ दिया। मैं बीजेपी फैन नहीं क्योंकि उनकी बहुत सारी नीतियों से मुझे इत्तफ़ाक नहीं है और ऐसे में जब देश ईमानदार नेताओं के लिए तरसता है तो केजरीवाल से उम्मीदें बंधना लाज़मी है।

परन्तु जब स्वयं बाकी पार्टियों वाली समस्याओं से जूझते नज़र आते हैं तो कहीं ना कहीं ये संशय अवश्य होता है कि वे इतनी बड़ी जिम्मेदारी उठाने के लिए तैयार थे, या दोष उनमें हैं जिनसे वे घिरे हुए हैं। कभी कभी हम उन्हें एक ऐसे महत्वकांक्षी व्यक्ति के रूप में पाते हैं जो सत्ता के लालच में सना हुआ है और थोडा इनसिक्योर भी है कि कहीं उसका अपना उसका band ना बजा दे।शायद यही वजह है कि पार्टी के सारे बड़े पदों पर पालथी मार कर बैठे हुए हैं।

अभी तक तो जो हुआ सो हुआ पर जो आज हुआ है वो अरविन्द केजरीवाल को मिलने वाले सारे झटकों से बड़ा झटका है। उनके अपने मंत्री कपिल मिश्रा ने उनपर रिश्वत लेने और भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है। सुबह से ये खबर न्यूज़ चैनल बिना रूकावट चला रहे हैं। LG से मिलने के बाद कपिल मिश्रा ने प्रेस कॉन्फरन्स कर के भी ख़बर को पुख्ता किया।

मिश्रा ने कहा, “1 साल से मेरी रिपोर्ट पर कार्रवाई नहीं हुई. मैंने अरविंद केजरीवाल को बताया कि कुछ नाम एसीबी को दूंगा. एसीबी से लेकर हर एजेंसी तक जांच के लिए जाऊंगा.”

Kapil Mishra ने केजरीवाल पर आरोप लगाए, “मैंने केजरीवाल को सत्येंद्र जैन से 2 करोड़ रुपये लेते देखा. मैंने केजरीवाल से पूछा कि ये क्या है तो उन्होंने कहा कि राजनीति में कुछ बातें बाद में बताई जाती हैं.” वे इतने कॉंफिडेंट नज़र आ रहे हैं कि उन्होंने एक अन्य मंत्री सत्येन्द्र जैन के जेल जाने तक की बात कह दी। अहम् बात ये है मिश्रा ने ये आरोप उस समय लगाए जबकि उन्हें पार्टी से पुअर परफॉरमेंस के चलते निष्कासित कर दिया गया था। मिश्रा जी आरोप तो लगा रहें हैं पर कोई पुख्ता सबूत नहीं दे रहे हालांकि विपक्ष को इससे कोई फ़र्क नहीं और उन्होंने तो केजरीवाल के इस्तीफ़े का राग अलापना भी शुरू कर दिया है।

खैर इस फटी की घड़ी में केजरीवाल जी को कुछ राहत पुराने दोस्तों से ज़रूर मिली है। जहां एक और कुमार विश्वास ने केजरीवाल जी के पैसे लेने की बात को सिरे से खारिज़ कर दिया है, साथ छोड़ चुके योगेंदर यादव ने भी मिश्राजी जी को सबूत पेश करने कि चुनौती दी है।

अपने करीबी रह चुके लोगों से ऐसी बातें सुन कर केजरीवाल जी को कुछ राहत तो ज़रूर मिली होगी पर समस्या टलने के आसार अभी तो नज़र नही आ रहे। हालांकि Kapil Mishra अभी भी अपने आप को पार्टी का हिस्सा मानते हैं और पार्टी छोड़ने से इनकार करते हैं पर यहाँ से उनके वापसी के रास्ते अब नज़र भी नहीं आते। अब बाकी तो भविष्य ही बतायेगा।


देखिये अब मनोज तिवारी ने भी मौका देख कर चौका जड़ ही दिया।

अब जब सब लोग मज़े ले रहे हैं तो अपने अण्णा हज़ारे कहाँ पीछे रहने वाले हैं।

चलिए अब ये भी देख ही लीजिये कैसे एक दूसरे के करीबी माने जाने वाले कुमार विश्वास और कपिल मिश्रा एक दूसरे कन्विंस करने की कोशिश कर रहे हैं।

(Visited 40 times, 1 visits today)

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *